Brahmacharya kya hai | ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें जानिए इसके फायदे और नुकसान

Brahmacharya kya hai | ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें जानिए इसके फायदे और नुकसान

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट के माध्यम से Brahmacharya से जुड़ी सभी जवाब बहुत ही सरल भाषा में समझाने का प्रयास किया जाएगा। ब्रह्मचारी से जुड़ी कुछ अपने अनुभव भी आपके साथ साझा करूंगा। इसीलिए इस लेख को पूरा पढ़िए और बहुत कुछ जानने को मिलेगा तो चलिए शुरू करते हैं।

प्राचीन भारतीय संस्कृति में कर्मचारी का विस्तृत वर्णन विशेष प्रकार से किया गया था जिसमें सनातन धर्म के नेताओं ने आध्यात्मिक यात्रा के लिए ब्रह्मचर्य Brahmacharya को महत्वपूर्ण बताया गया है।

लेकिन जिस प्रकार की बातें ऋषियों ने की थी, आज के वर्तमान युग में ज्यादातर गलत तरीके से लोगों के सामने पेश किया जा रहा है ब्रह्मचर्य का अर्थ।

क्योंकि मैंने YouTube में ब्रह्मचार्य के बारे में सर्च किया तो बहुत से रिजल्ट सामने आए। जिसमें यह कहा जा रहा है कि अगर आप मात्र 30 दिनों तक ब्रह्मचर्य (वीर्य को रोकने) का पालन करते हो तो आपका असाधारण शक्ति की प्राप्ति हो जाएगी।

आप कभी भी दिमाग नहीं पढ़ोगे और आप अपने जीवन में जो भी बहुत इक सुख सुविधाएं पाना चाहते हैं, उनको बहुत ही आसानी से प्राप्त कर लोगे ऐसे ही लुभाने वाली बातें वीडियो में आजकल बताई जा रही है।

जहां तक मैंने अपने ब्रह्मचार्य को लेकर इस अध्ययन मैं आप लोगों को एक और इमानदारी से ब्रह्मचार्य की सच्चाई और ब्रह्मचार्य से संबंधित आपकी सभी छोटे बड़े सवालों के जवाब दिए हैं तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें और ब्रह्मचार्य से संबंधित है पूरी जानकारी लें।

Brahmacharya kya hai | ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें जानिए इसके फायदे और नुकसान
Brahmacharya kya hai | ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें जानिए इसके फायदे और नुकसान

ब्रह्मचर्य का अर्थ – What Is Brahmacharya?

ब्रह्मचर्य का सीधा साधा कर दिया होता है कि आपकी जीवनचर्या ब्रह्म की तरह हो जाना अर्थात सब मनुष्य का आचरण ब्रह्म के केंद्र से संचालित होने लगता है, उस मनुष्य को ब्रह्मचारी कहा जाता है।

जब व्यक्ति ब्रह्मचार्य को प्राप्त होता है तो उसको इस जगत में की बहुत सी भौतिक सुख सुविधाएं, ब्रह्मचर्य के सुख छोटी प्रतीत होने लगती है।
इस जगत की बहुत सी ऐसी भौतिक सुविधाएं मैं एक सुख जो पुरुष और स्त्री से और स्त्री को पुरुष से मिलता है यानी संभोग का सुख वह भी मनुष्य को बहुत ही छोटी दिखाई देने लगता है।

यानी सीधा सा अर्थ आप समझिए अगर आप ब्रह्मचर्य को अच्छे से समझ गए हैं तो दुनिया का हर एक सुख आपके नजर में बहुत ही छोटी होगी।

ब्रह्मचर्य को प्राप्त होने वाला व्यक्ति इन सभी छोटी बातों पर अपना समय व्यर्थ नहीं गम आते हैं। जैसे कि इसका मतलब यह नहीं है कि ब्रह्मचारी व्यक्ति शादी नहीं कर सकता। ब्रह्मचार्य का विवाह से कोई संबंध नहीं होता है और ना ही वीर्य से कोई मतलब होता है।

जबकि ब्रह्मचार्य का इन सब छोटी मोटी बातों से कोई लेना देना नहीं है हां ब्रह्मचार्य में एक बात बहुत जरूरी है कि जब व्यक्ति ब्रह्मचारी को उपलब्ध होता है तो वह हर किसी से एक स्वस्थ संबंध बनाता है।

जैसे कि ब्रह्मचारी व्यक्ति हर किसी महिला को काम भारी निगाहों से नहीं देखता है। कुल मिलाकर ब्रह्मचारी का अर्थ है सत्य को जान लेना। इस प्रकार आप समझ गए होंगे कि ब्रह्मचर्य brahmacharya क्या है।

अगर आप तो अच्छे से समझ गए हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताइएगा और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करें।

ब्रह्माचार्य का पालन कैसे करें – How to Do Brahmacharya?

वैसे तो ब्रह्माचार्य का पालन करने के लिए कोई विशेष नियम नहीं होता है, क्योंकि ब्रह्मचारी कोई शारीरिक क्रिया नहीं है इसे आप कर सकें।

लेकिन यदि आप ब्रह्मचारी को उपलब्ध होना चाहते हैं तो आप ध्यान में बैठना शुरू करें। यानी आप रोज योगा आसन करें। जैसे-जैसे आप का ध्यान गहरा होता जाएगा वैसे वैसे आपका अपनी इंद्रियों में कंट्रोल होता जाएगा।

और आप धीरे-धीरे ब्रह्मचारी को उपलब्ध होते जाएंगे। इसीलिए आपको ध्यान नियमित करना चाहिए ध्यान में अत्यधिक गहरा के लिए कुछ नियम आपको बताए गए हैं जो निम्न प्रकार से है-

ब्रह्मचर्य के नियम – Brahmacharya Rules

  • आप अपने रोजाना आहार-विहार को सही रखें।
  • दूसरों की निंदा करने से बचें।
  • दिन में कुछ समय मौन रहें।
  • बेवजह किसी से बात ना करें।
  • जो भी काम करें उसको होशपूर्ण करें।
  • दैनिक जीवन में कुछ समय प्रकृति के साथ बिताए।
  • गलत लोगों की संगति से दूर रहें।
  • भगवान पर पूर्ण विश्वास रखें।

अगर आप इन सभी नियमों का रोजाना पालन करते हैं तो ब्रह्मचर्य में आप उपलब्ध हो सकते हैं और अपने जीवन में एक सही दिशा की ओर जा सकते हैं।

ब्रह्मचर्य का पालन अगर आप करते हैं तो आपका ध्यान और व्यवहार कंट्रोल में रहेगा किसी गलत दिशा की ओर नहीं जाएगा अपने लक्ष्य की ओर जाएगा यानी कि आपका जो लक्ष्य होगा बस वही काम पर आप ध्यान दीजिएगा किसी गलत काम की और आपका ध्यान नहीं जाएगा इसे ही ब्रह्मचर्य कहा जा सकता है।

Read More
इस पोस्ट से संबंधित कोई और जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताइएगा ताकि आपका कोई भी समस्या हो तो कमेंट बॉक्स में आपको रिप्लाई दिया जा सके।

अगर आपको यह Post पसंद आया है तो इस आर्टिकल को अपने मित्रों में जरूर शेयर करें।
इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद्।

नीचे दिए गए सोशल मीडिया के आइकन पर क्लिक करके आप हमारे साथ जोड़ सकते हैं। जिस से आने वाली New Update की जानकारी आप तक पहुंच सकें।

STUDY EXAM 399 अब सोशल मीडिया पर उपलब्ध है 24×7 हमारे साथ जुड़े। हर खबर पर सबसे पहले Update !

Official Facebook Page Click Here
Official Facebook Group Click Here
Official Telegram Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय स्नातक पार्ट 1 नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन यहां से करें | Patliputra University Part 1 Admission Online 2022 OFSS बिहार बोर्ड इंटर (11वीं) में नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू | OFSS Bihar Board Inter Admission Online Apply 2022-24 जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 रिजल्ट (मेरिट लिस्ट और कटऑफ लिस्ट) देखने के लिए यहां क्लिक करें | Navodaya Class 6 Result 2022 Out पटना यूनिवर्सिटी में नए सत्र में नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन यहां से करें | patna university admission 2022 online apply भारतीय वायु सेना में 10वीं/ 12वीं/ स्नातक पास के लिए निकली बंपर भर्ती || Indian Air Force Recruitment 2022